ख़बरसारदेश-विदेश

PM की ‘मन की बात’ सुनने को रविवार को भी खुलेंगे विद्यालय, प्रदेश में होगा भव्य आयोजन

Spread the love

हर्षिता टाइम्स।
देहरादून। मन की बात का 100वाँ एपिसोड रविवार को प्रातः 11:00 बजे ऑल इंडिया रेडियो, डीडी नेशनल और डीडी न्यूज़ आदि से प्रसारित किया जाना है कार्यक्रम के 100वें एपिसोड के अवसर पर कार्यक्रम को विस्तृत स्वरूप प्रदान किये जाने हेतु इसका प्रसारण विश्व स्तर पर किया जा रहा है। इसको लेकर राज्य परियोजना निदेशक समग्र शिक्षा बंशीधर तिवारी ने कहा कि कार्यक्रम में प्रधानमंत्री द्वारा बच्चों, अभिभावकों, अध्यापकों एवं विद्यालयों के लिए मार्गदर्शन प्रदान किया जाता है, इसलिए कार्यक्रम का प्रसारण सभी हितधारकों जिसमें बच्चे महत्वपूर्ण हैं, के लिए उपयोगी है। कार्यक्रम का व्यापक प्रचार प्रसार हो सके तथा शिक्षक एवं छात्र-छात्राएँ कार्यक्रम से लाभान्वित हो सकें ।इसके लिए शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं की इसमें प्रतिभागिता महत्वपूर्ण है।
विचारोपरान्त निर्णय लिया गया है कि दिनांक 30 अप्रैल को समस्त विद्यालय संचालित रहेंगे तथा सभी छात्र-छात्राओं को प्रधानमंत्री की मन की बात कार्यक्रम को दिखाया जायेगा। बंशीधर तिवारी ने कहा कि कार्यक्रम विद्यालय स्तर पर प्रसारित हो सके इसके लिए विद्यालय स्तर पर आवश्यक व्यवस्थायें यथा टेलीविजन, एल०ई०डी०, रेडियो, वर्चुअल क्लास, स्मार्ट कक्षा, कम्प्यूटर, लैपटॉप आदि कर ली जायें। यदि उल्लिखित संसाधनों की व्यवस्था नहीं हो सकती है तो मोबाइल के माध्यम से भी छात्र-छात्राओं को मन की बात कार्यक्रम से जोड़ा जा सकता है अतः समयान्तर्गत कार्यवाही सुनिश्चित की जाए।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि ऐसे में राज्य में भी अधिकाधिक लोग पीएम की मन की बात सुन सकें। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कार्यक्रम को सुनने की व्यवस्था को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन लोगों का विशेष उल्लेख करते हैं जो कि समाज और राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। ऐसे तमाम लोग देश के कोने-कोने में हैं और अपने कार्यों से अलग पहचान बनाते हुए समाज को दिशा देने का काम भी कर रहे हैं। ऐसे लोगों के बारे में जानकारी और उनके कार्यों के बारे में जानकारी इस कार्यक्रम के माध्यम से प्रधानमंत्री द्वारा दी जाती है। इसके अलावा छात्रों के के लिये भी यह जानकारी बहुत उपयोगी होती है और पूर्व में छात्र और शिक्षक तथा आमजन इस कार्यक्रम को सुनते रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *