स्वास्थ्य

ट्रॉमा विशेषज्ञों ने नुक्कड़ नाटक और जागरुकता कार्यक्रमों के माध्यम से छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षण दिया

Spread the love

Street theater and awareness

देहरादून, 14 अक्टूबर। एम्स ऋषिकेश के तत्वावधान में आयोजित ट्रॉमा सप्ताह के तहत एम्स का ट्रॉमा रथ अलग-अलग दिनों में क्षेत्र के विभिन्न स्कूल-कॉलेजों और गांवों में पहुंचा। यहां ट्रॉमा विशेषज्ञों ने नुक्कड़ नाटक और जागरुकता (Street theater and awareness) कार्यक्रमों के माध्यम से छात्र-छात्राओं को सड़क दुर्घटनाओं के दौरान प्राथमिक उपचार और घायल व्यक्ति के जीवन को बचाने के तौर-तरीकों के बारे में विस्तार से प्रशिक्षण दिया।

बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं पर रोक लगाने और आघात चिकित्सा के प्रति आम लोगों को जागरुक करने के उद्देश्य से एम्स ऋषिकेश का ट्रॉमा रथ 11 अक्टूबर को संस्थान से रवाना हुआ था। इस दौरान पिछले 4 दिनों में स्कूल स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रमों सहित कई स्थानों पर ट्रॉमा से सम्बन्धित जन-जागरुकता के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए।

Street theater and awareness
ट्रॉमा विशेषज्ञों ने नुक्कड़ नाटक और जागरुकता कार्यक्रमों के माध्यम से छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षण दिया

संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर डा. मीनू सिंह की देखरेख और ट्रॉमा सर्जरी विभाग के हेड प्रो. कमर आजम के मार्गदर्शन में श्यामपुर गुमानीवाला स्थित डीएसबी स्कूल में ट्रॉमा विशेषज्ञ डॉ. मधुर उनियाल, डीएनएस कमलेश बैरवा एएनएस महेश और यूएसए के प्रतिनिधियों डॉ. मयूर नारायण, जोसेफ हन्ना, लिसा, दयाना आदि ने सड़क दुर्घटना के दौरान घायल व्यक्ति की जान बचाने के प्राथमिक उपाय बताए। साथ ही दुर्घटना रोकथाम के बारे में विस्तार से बताया।

इस दौरान सड़क सुरक्षा जागरुकता से सम्बन्धित नुक्कड़ नाटक भी प्रस्तुत किया गया। जिसमें सोनू, जयंती, उमराव, आरती, अलका, शीला कुशवाहा, राखी यादव, लवी पुंडीर, हिमांशु पाठक आदि टीम सदस्य शामिल थे।

उधर ट्रॉमा विभाग में एक वैस्कुलर वर्कशॉप का भी आयोजन किया गया। इस वर्कशॉप में डॉ. नीरज, डॉ. सुधीर, डॉ. अक्षय कपूर, डॉ. राजा , डॉ. भास्कर, डॉ. सुनील आदि शामिल रहे। एक अन्य कार्यक्रम में दुर्घटना होने अथवा चोटिल हो जाने पर घाव की देखभाल व उसका समुचित इलाज किस तरह किया जाता है।

इस बारे में संस्थान के लैक्चर हॉल में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। मुख्य नर्सिंग अधिकारी रीटा शर्मा के सुपरविजन में इस कार्यशाला को डीएनएस कमलेश बैरवा ने संबोधित किया। इस मौके पर डीएनएस कल्पना, अखिल टी, जितेन्द्र, निखिल, पुष्पा रानी आदि मौजूद रहे।

Street theater and awareness ट्रॉमा रथ नरेन्द्रनगर के निकट ओंणी गांव पहुंचा :-

दूसरी ओर शुक्रवार को ट्रॉमा रथ नरेन्द्रनगर के निकट ओंणी गांव पहुंचा। यहां प्राथमिक विद्यालय में आयोजित कार्यक्रम के दौरान एम्स के ट्रॉमा विभाग एवं क्रिटिकल केयर विशेषज्ञों सहित एम्स की नर्सिंग टीम ने ग्रामीणों को दुर्घटना होने प्राथमिक चिकित्सा की जानकारी दी। साथ ही दुर्घटना से बचाव के बारे में नुक्कड़ नाटक व डेमोस्ट्रेशन के माध्यम से ग्रामीणों को जागरुक किया गया।

Street theater and awareness
ट्रॉमा विशेषज्ञों ने नुक्कड़ नाटक और जागरुकता कार्यक्रमों के माध्यम से छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षण दिया

कार्यक्रम में प्राथमिक विद्यालय ओणी के प्रधानाध्यापक ब्रह्मदेव प्रसाद गुप्ता, ग्राम प्रधान राकेश उनियाल, रटगर यूनिवर्सिटी अमेरिका से आए ट्रॉमा विभागाध्यक्ष डॉ मयूर नारायण , डा. डोसेफ एवं ट्रॉमा नर्सिंग कॉलेज अमेरिका की निदेशक डायना, लिसा , एम्स ऋषिकेश ट्रॉमा सेंटर विशेषज्ञ डॉ. मधुर उनियाल, मुख्य नर्सिंग अधिकारी रीटा शर्मा , डीएनएस कमलेश कुमार बैरवा, एनएस महेश जी देवस्थले , दिनेश लुहार , अखिलेश उनियाल , शशिकान्त, आसीफ ताराचन्द एवं नुक्कड़ नाटक टीम के सदस्य सोनू , सुशीला, लवी , शीला जयन्ति , उमराव, मुकेश,आरती,हिमांशु आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *