ख़बरसारउत्तराखंड

मोटे अनाज से तैयार भोजन को बढ़ावा दें: केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री

Spread the love

हर्षिता टाइम्स।
ऋषिकेश। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्यमंत्री भारती प्रवीन पवार ने रविवार को एम्स ऋषिकेश परिसर में ‘श्रीअन्न कैफे’ का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है कि हम अपने दैनिक जीवन में मोटे अनाज से तैयार भोजन को बढ़ावा दें। उन्होंने कहा कि खासतौर से युवा पीढ़ी को मोटे अनाज से तैयार भोज्य पदार्थ का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।
एम्स ऋषिकेश के गेट नंबर- 2 के समीप रविवार को श्रीअन्न कैफे ( मिलेट कैफे ) का उद्घाटन किया गया। एम्स में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं तथा फैकल्टी सदस्य, चिकित्सक और कर्मचारियों को इस कैफे में मोटे अनाज पर आधारित भोज्य पदार्थ परोसे जाएंगे।
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री भारती प्रवीन पवार ने श्रीअन्न कैफे का उद्घाटन करते हुए कहा कि मोटे अनाज पर आधारित भोजन की हमारे दैनिक जीवन में विशेष महत्ता है। उन्होंने कहा कि ‘स्वस्थ खाएं और स्वस्थ रहें’ का नारा तभी साकार होगा जब हमारी युवा पीढ़ी जंग फूड की जगह मोटे अनाज पर आधारित भोजन को अपने दैनिक जीवन में उपयोग करेगी। केंद्रीय राज्य मंत्री भारती पवार ने कहा कि वर्ष 2023 पूरे देश में श्रीअन्न योजना के रूप में मनाया जा रहा है।
गौरतलब है कि केंद्र सरकार द्वारा चालू वित्त वर्ष में ‘श्रीअन्न योजना’ के लिए विशेष फोकस किया जा रहा है और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी देश में मोटे अनाज के उत्पादन को बढ़ावा देने की दिशा में विशेष कार्य कर रहे हैं। सरकार का प्रयास है कि श्रीअन्न योजना के तहत संचालित होने वाले श्री अन्न कैफे (मिलेट कैफे ) में मोटा अनाज अर्थात ज्वार-बाजरा, रागी, मक्का आदि के डोसे, चीला, ढोकले, मल्टीग्रेन बिस्किट और इडली जैसे भोज्य पदार्थों को बढ़ावा दिया जाएगा।
इस अवसर पर संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर (डॉ.) मीनू सिंह ने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री भारती पवार को छात्र-छात्राओं के लिए हॉस्टल मैस में बनाए जाने वाले मोटे अनाज आधारित भोजन की विस्तृत जानकारी दी। प्रोफेसर( डॉ.) मीनू सिंह ने कहा कि संस्थान मिलेट आधारित भोजन बनाने पर विशेष गंभीरता अपना रहा है और इसे अपनाने के लिए छात्र छात्राओं को भी प्रेरित कर रहा है।
इस अवसर पर संस्थान की डीन एकेडमिक्स प्रोफेसर जया चतुर्वेदी, डॉ. वंदना धींगरा, डॉ. गीता नेगी, डॉ. विनोद, डॉ रजनीश अरोड़ा, डॉ. मृदुल धर, डॉ. निधि केले, डॉ. रोहित गुप्ता, डा. नीति गुप्ता, डॉ. आशीष भूते, डॉ. अनीश गुप्ता, डॉ. राज राजेश्वरी, डॉ. रवि गुप्ता,डॉक्टर अनन्या दास, डॉ. जितेंद्र चतुर्वेदी, डॉ. मृदुल धर,डॉक्टर संतोष कुमार, डॉ. आशीष जैन, डॉ. राकेश शर्मा और इंजीनियर विपुल मिश्रा सहित संस्थान के संकाय व अन्य मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *